कैसे जायें पिण्डारी, कफनी, मैक्तोली ग्लेशियर – 2

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

केशव भट्ट पिंडारी से छाँगूच, नंदा खाट, बल्जुरी के साथ ही नंदाकोट के भव्य दर्शन होते हैं। अंग्रेज शासक ट्रेल के नाम पर प्रसिद्ध ‘ट्रेल पास’, जो पिंडारी ग्लेशियर को जोहार के मिलम घाटी के ल्वाँ गाँव से जोड़ता है, एक साथ ही अद्भुत और भयानक है। इस दर्र

2016-07-28 03:29:23  

कैसे जायें पिंडारी,कफनी,मैक्तोली ग्लेशियर

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

केशव भट्ट पिंडारी ग्लेशियर जाने वाले ट्रेकिंग के शौकीन अकसर परेशान रहते हैं। गूगल के साथ ही अन्य जगहों से उन्हें जो आधी-अधूरी जानकारी मिलती है, उससे वे पिंडारी के बारे में अपने दिमाग में स्विट्जरलैंड की तरह का एक अलग ही कोलाज बना लेते हंै। मसलन प

2016-07-28 03:13:18  

द्रोण गिरी की अनूठी रामलीला

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

मनोज इष्टवाल बात अजीब सी है लेकिन है एकदम सौ आने सच। वो हनुमान जी ही थे जिनके कारण हजारों बर्ष बाद भी द्रोणागिरी गाँव की महिलाएं अपने समाज व अपने देवता की उपेक्षा का दंश झेल रही हैं। बस उस बुजुर्ग महिला की यह गलती थी कि उसे लक्ष्मण के प्राण संकट

2016-07-24 17:10:42  

स्वस्ती श्री

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

पिछले काफी समय से कुछ न्यूज चैनलों पर मौसम समाचार इस प्रकार आ रहे हैं कि ‘उत्तराखंड में होने वाली है आफत की बारिश’। गलत न्यूज देने से कुमाऊँ तथा गढ़वाल दोनों ही बदनाम हो जा रहे हैं। मौसम विभाग को निश्चित स्थानों की ही आफत की बारिश का पूर्वानुमान व

2016-07-24 16:57:01  

सामजिक समरसता से सियासी खींचतान की और जाता हरेला पर्व

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

संजय पांडे श्रावण माह की संक्रान्ति पूरे देश में अलग-अलग नामों से मनायी जाती है। उत्तर प्रदेश, बिहार आदि में यह ‘हरियाली तीज’ है तो आसाम में ‘हुबली बिछू’। नेपाल में इसे ‘धान उत्सव’ के रूप में मनाया जाता है। सर्वत्र इस पर्व की मूल भावना हरियाली से

2016-07-24 16:51:53  

‘लाल लकीर’ और ‘रूट्स’ का विमोचन

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

सुमित तिवारी पिछले दिनों एम. बी. स्नातकोत्तर महाविद्यालय, हल्द्वानी के सभागार में पहाड़ी मूल के दो युवा लेखकों हृदयेश जोशी के उपन्यास ‘लाल लकीर’ और युवा लेखक राहुल भट्ट की पुस्तक ‘रूट्स’ का विमोचन सम्पन्न हुआ। प्रदेश के उच्च शिक्षा निदेशक डाॅ॰ बी॰

2016-07-24 16:46:51  

बादल ओ !

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

बादल ओ ! हम नये-नये धानों के बच्चे तुम्हें पुकार रहे हैं बादल ओ ! बादल ओ ! बादल ओ ! हम बच्चे हैं चिड़ियों की परछाई पकड़ रहे हैं उड़-उड़ हम बच्चे हैं हमें याद आई है जाने किन जनमों कीे आज हो गया है जी उन्मन तुम कि पिता हो इन्द्रधनुष बरसो कि […]

2016-07-24 14:55:30  

उत्तराखंड में नेतृत्व को लेकर अनिर्णय में है भाजपा हाईकमान

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

जगमोहन रौतेला भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 25-26 जून 2016 को दो दिन उत्तराखण्ड में रहे। इस दौरान उन्होंने बदरी-केदार धामों के दर्शन करने के अतिरिक्त हरिद्वार में एक जनसभा को सम्बोधित किया और हल्द्वानी में पार्टी की प्रान्तीय प

2016-07-24 14:48:23  

सिर्फ पुरस्कारों के लिए क्यों हो हरेला

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

पंकज भट्ट हरेला पर्व पहाड़ की कृषि, बागवानी, पशुपालन, वन्य सम्पदा के प्रति हमारे जुड़ाव को दर्शाता है। जबकि अन्य पारम्परिक पर्वों में अब उतनी मिठास नहीं रही, हरेला आज भी ‘दूब जै जड़ पनप जए’ के आशीर्वाद साथ लोक जीवन में बना हुआ है। अब तो फेसबुक, और ह

2016-07-24 14:41:47  

बारहा खुराफातों के बाजीगर थे अक्कू मियाँ

अमृत संजीवनी: एक बहुउपयोगी पुस्तक - नैनीताल समाचार

शंभू राणा एक हुआ करते थे अकबर अली। इन हजरत के बारे में अब ये तो नहीं कह सकते कि ये अल्मोड़ा शहर की एक विभूति थे, शान थे कोई ऊँची हस्ती थे। लेकिन कुछ तो थे। एक चरित्र तो थे ही कि जिनका जिक्र आज भी प्रसंगवश गाहे-ब-गाहे लोगों की जबान पर आ ही […

2016-07-24 14:28:43  

‘देश की धड़कन’ एचएमटी बंद!

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

किसी जमाने में घरों में ‘हाईस्कूल में फर्स्ट डिवीजन लाओगे तो घड़ी दिलाएंगे’ जैसे जुमले सुनना आम था. घड़ी यानी एचएमटी ‘जनता’. और फिर जब घड़ी आती तो शुरू होते किस्से. पता चलता कि वो घड़ी जिसे पिताजी हाथ तक नहीं लगाने देते, वो उनकी पहली कमाई से खरीदी थी

2016-01-07 14:17:40  

सुर्खियों के बाद

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

दिल्ली | अप्रैल 2013 ‘शीला दीक्षित बोलीं कि मेरे पास रोज 500 बलात्कार के मामले आते हैं. मैं किस-किस को देखूंगी’ गुड़िया के लिए यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी सहित तमाम नेता बड़े-बड़े वादे कर गए थे, लेकिन हुआ कुछ नहीं. पांच साल की गुड़िया अब अपने

2016-01-07 10:22:37  

अगर मैं नक्सली हूं तो मुझे जेल में डालना चाहिए या फिर मेरा निष्कासन होना चाहिए?

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

खबरों के मुताबिक, उन्होंने निर्भया कांड पर बनी ​डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘इंडियाज डॉटर’ के विश्वविद्यालय में प्रदर्शन को लेकर मुहिम चलाई थी. वे लगातार धरना-प्रदर्शनों और सामाजिक गतिविधियों में शामिल रहते थे. इसे लेकर कुछ छात्रों ने प्रबंधन से उनकी शिक

2016-01-06 10:06:29  

दस बलात्कार, दो हत्याएं, चार साल जांच… नतीजा शून्य

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

दृश्य एक- मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में मुलताई तहसील का चौथिया गांव. अभी दिन की शुरुआत ही हुई है और इस कस्बे में सूरज की नर्म रोशनी धीरे-धीरे खेतों में फैल रही है. तभी अचानक लगभग 2,000 लोगों की एक हिंसक भीड़ ट्रैक्टरों और जेसीबी मशीन के साथ खेतों

2016-01-06 08:22:55  

मासूम गिरोहों की दिल्ली

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

गर्मियों की एक दोपहर. नई दिल्ली रेलवे स्टेशन. नई-दिल्ली-गुवाहाटी राजधानी एक्सप्रेस अपनी यात्रा पूरी कर चुकी है. यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर उतारने के बाद खाली हो चुकी ट्रेन धुलाई-सफाई के लिए रेलवे स्टेशन के पीछे बने यार्ड की तरफ बढ़ रही है. अचानक ए

2016-01-05 10:56:15  

महान लोकतंत्र की सौतेली संतानें

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

सोनभद्र को देखकर पहली नजर में ही लगता  है मानो यहां कोई लूट मची हो. वाराणसी-शक्तिनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर ट्रकों का तांता कभी नहीं टूटता. मन में सवाल उठता है कि आखिर सोनभद्र में यह आपाधापी मची क्यों है? जवाब सीधा है. सोनभद्र का वरदान ही उसका अभि

2016-01-05 09:20:29  

‘समाज व संगठनों का भी पतन हुआ, छात्र राजनीति इससे अलग नहीं’

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

यह सही है कि छात्र राजनीति की पहली प्राथमिकता अध्ययन है, लेकिन जो सामाजिक-राजनीतिक समस्याएं हैं, उन पर भी निगाह रखनी चाहिए और सभी विचारधाराओं से परिचित होना चाहिए. छात्रों के अपने कर्तव्य और अधिकार हैं. राष्ट्र या समाज के समक्ष कोई गंभीर समस्या आ

2016-01-04 10:20:47  

‘मन में बसी महादेव की मूर्ति पूरी तरह से ढह चुकी थी और मैं वापस घर लौट आया’

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

बात साल 2007 की है. मैं दिल्ली विश्वविद्यालय में बीए प्रथम वर्ष का छात्र था. सावन के महीने में एक दिन अचानक दोस्त के साथ झारखंड के देवघर में शिवजी को जल चढ़ाने के लिए निकल पड़ा. सफर ऐसा था कि सुल्तानगंज पहुंचते-पहुंचते बदन का हर हिस्सा हिल चुका थ

2015-12-28 17:08:18  

कुछ सपने, ख्वाहिशें और शीरोज हैंगआउट

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

जहां महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों के लिए उन्हें ही जिम्मेदार ठहराया जाता है, वहां किसी एसिड अटैक सरवाइवर का उस सदमे से उबरकर नए सिरे से जिंदगी शुरू करना हिम्मत का काम है. कुछ ऐसा ही जज्बा तेजाब हमलों की शिकार महिलाओं ने कैफे खोलकर दिखाया है.

2015-12-23 10:32:56  

जाने चले जाते हैं कहां…

पुस्तक समीक्षा — Tehelka Hindi

संजय तिवारी इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ में 2003-04 में अध्यक्ष चुने गए थे. इसके पहले वे महामंत्री भी रह चुके थे. वे छात्रों के बीच काफी लोकप्रिय थे. उन्हें भाषण कला अच्छी आती थी. वे समय-समय पर छात्रों का मुद्दा उठाते रहते थे. छात्रों के बीच

2015-12-23 08:01:02  

中国古代文学 Global world news developer online documents developer online toolset Global E-commerce Global world images